//autoads scripts दुनिया में मोबाइल इंटरनेट स्पीड के मामले में भारत का 109वां नंबर, जानिए भारत में कितनी है स्पीड ~ Techyrajput

दुनिया में मोबाइल इंटरनेट स्पीड के मामले में भारत का 109वां नंबर, जानिए भारत में कितनी है स्पीड


मोबाइल इंटरनेट में नॉर्वे दुनिया में पहले स्थान पर है। नॉर्वे में नवंबर में एवरेज डाउनलोड स्पीड 62.66 Mbps की है। भारत में फिक्स्ड ब्रॉडबैंड की स्पीड में लगभग 50 पर्सेंट की तेजी आई है।

मोबाइल इंटरनेट में नॉर्वे दुनिया में पहले स्थान पर है। नॉर्वे में नवंबर में एवरेज डाउनलोड स्पीड 62.66 Mbps की है। फिक्स्ड ब्रॉडबैंड कैटेगरी में सिंगापुर 153.85 Mbps की एवरेज डाउनलोड स्पीड के साथ टॉप पर रहा। भारत में 2017 की शुरुआत में एवरेज मोबाइल डाउनलोड स्पीड 7.65 Mbps की थी, जो नवंबर में 15 पर्सेंट बढ़कर 8.80 Mbps पर पहुंच गई। फिक्स्ड ब्रॉडबैंड स्पीड में लगभग 50 पर्सेंट की तेजी आई है। यह जनवरी में 12.12 Mbps थी और नवंबर में यह 18.18 Mbps पर पहुंच गई।

मोबाइल इंटरनेट स्पीड के मामले में दुनिया में भारत का स्थान 109वां है और फिक्स ब्रॉडबैंड के मामले में 76वां है, इसमें 15 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। ऊकला के नवंबर के स्पीडटेस्ट ग्लोबल इंडेक्स में देश की एवरेज मोबाइल स्पीड 8.8 Mbps और ब्रॉडबैंड स्पीड 18.82 Mbps रही। स्पीड टेस्टिंग एजेंसी ऊकला के जनरल मैनेजर ने बताया, ‘भारत में मोबाइल और फिक्स्ड ब्रॉडबैंड इंटरनेट दोनों की स्पीड तेज हो रही है। यह भारतीय कंज्यूमर्स के लिए अच्छी खबर है। हालांकि, दुनिया में टॉप स्पीड रखने वाले देशों का मुकाबला करने के लिए भारत को अभी भी लंबा सफर तय करना होगा।’

ऊकला ने कहा कि वह भारतीय मार्केट में ग्रोथ की क्षमता को लेकर काफी आशा रखती है। भारती एयरटेल, वोडाफोन इंडिया, आइडिया सेल्युलर और रिलायंस जियो इंफोकॉम जैसी देश की बड़ी टेलीकॉम कंपनियों ने 2017 में करोड़ों यूजर्स के लिए अफोर्डेबल प्राइस पर हाई-स्पीड डेटा उपलब्ध कराया है। ऊकला का कहना है कि 3G स्पीड से लिहाज से बने नेटवर्क को मोबाइल यूजर्स की नई जरूरतों को पूरा करने में मुश्किल होगी। इस वजह से ऐसे इंफ्रास्ट्रक्चर की योजना बनाना महत्वपूर्ण है जो एक नेटवर्क में कई प्रकार के यूजर्स की जरूरतें पूरी कर सके। डेटा की बढ़ती डिमांड को देखते हुए भारती एयरटेल ने अपने 4G नेटवर्क को मजबूत करने के लिए मौजूदा फाइनेंशियल ईयर में 25,000 करोड़ रुपये तक का इनवेस्टमेंट करने की योजना बनाई है।
Previous
Next Post »